भारतीय रेल

भारतीय रेल में प्रथम
पहली ट्रेन बंबई (बोरीबंदर) से ठाणे (21 मील) 16 अप्रैल 1853 को चलाई गई थी ।
पहली यात्री ट्रेन हावड़ा से हुगली तक (24 मील की दूरी) 15 अगस्त 1854 को चलाई गई थी ।
1925 में पहली इलेक्ट्रिक ट्रेन ग्रेट इंडियन पेनिनसुलर रेलवे द्वारा मुंबई में चलाई गई थी ।
पहली राजधानी एक्सप्रेस (हावड़ा और दिल्ली के बीच) 1 मार्च 1969 को चलाई गई थी ।
भारत में पहली भूमिगत रेल की शुरुवात 1984 में कोलकाता में हुई थी ।
कंप्यूटरीकृत यात्री आरक्षण प्रणाली की शुरुवात 1986 में हुई थी ।
भारतीय रेलवे की कम्प्यूटरीकृत यात्री आरक्षण प्रणाली (पीआरएस) विश्व का सबसे बड़ा यात्री आरक्षण नेटवर्क, है जो 8074 टर्मिनलों के साथ 2222 स्थानों पर उपलब्ध है ।
पहली दुरोंतो एक्सप्रेस सियालदह से नई दिल्ली सितंबर 2009 में चलाई गई थी ।
सबसे लंबा सफर, पुल, प्लेटफॉर्म इत्यादि
दुनिया का सबसे लंबा प्लेटफार्म गोरखपुर मे है जिसके लम्बाई 4482 फीट है ।
2011 में शुरू की गई डिब्रूगढ़ और कन्या कुमारी (4286 किमी) के बीच चलने वाली विवेक एक्सप्रेस सबसे लम्बी यात्रा तय करती है । इससे पहले, हिमसागर एक्सप्रेस (कन्या कुमारी और जम्मू तवी के बीच, 3751 किमी) सबसे लंबी यात्रा तय करती थी ।
सबसे लम्बी यात्रा तय करने वाली राजधानी एक्सप्रेस हज़रत निजामुद्दिन और तिरुवनंतापुरम के बीच चलती है । इस यात्रा की कुल लम्बाई 3149 की.मी. है ।
4.62 किलोमीटर की लंबाई वाला येदापल्ली और वल्लरपादम के बीच का वेम्बानाड रेलवे पुल भारत का सबसे लंबा रेलवे पुल है ।
काजीगुंड और बनिहाल के बीच का पीर पंजाल रेलवे सुरंग जिसके लम्बाई 10.96 किलोमीटर है भारत का सबसे लम्बा रेलवे सुरंग है । इस सुरंग पर काम अक्टूबर 2011 में पूरा किया गया था । इससे पहले कोंकण रेलवे का कारबुडे सुरंग (लंबाई 6.5 किमी) सबसे लंबा रेलवे सुरंग था ।
विविध जानकारी
कोंकण रेलवे पश्चिमी घाट में सहयाद्री पहाड़ों से होकर गुजरती है और मुम्बई और मंगलौर को जोड़ती है ।
भारतीय रेल नेटवर्क अमेरिका, रूस और चीन के बाद विश्व का चौथा सबसे बड़ा नेटवर्क है । इसकी कुल लम्बाई 65,808 किलोमीटर (31.03.2014) है ।
भारतीय रेल की कुल विद्युतीकृत मार्ग की लम्बाई 21,614 किलोमीटर है (31.03.2014)
दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे, नीलगिरि माउंटेन रेलवे, कालका शिमला रेलवे सामूहिक रूप से यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल के रूप में वर्गीकृत किए गए हैं ।
छत्रपति शिवाजी टर्मिनस, मुंबई जिसे विक्टोरिया टर्मिनस के नाम से जाना जाता था, भी एक विश्व धरोहर स्थल है.
भोलु, एक हाथी भारतीय रेलवे का शुभंकर है ।
नई दिल्ली से अलवर के बीच चलने वाली फेयरी क्वीन दुनिया के सबसे पुराना भाप इंजन परिचलन में है ।
विश्व की पहली रेलवे समय सारणी जॉर्ज ब्रैडशॉ द्वारा डिजाइन की गई थी ।
सिलीगुड़ी स्टेशन मे बड़ी, मीटर और छोटी तीनों लाइनें मौजूद है ।



© www.leadthecompetition.in    Copyright Policy